15 February, 2007

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती।

नन्हीं चीटीं जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर सौ बार फ़िसलती है,
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना ना अखरता है,
आखिर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

डुबकियां सिन्धु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौट आता है,
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में,
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों कि कभी हार नहीं होती।

असफ़लता एक चुनौती है,इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गयी, देखो और सुधार करो,
जब तक ना सफ़ल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़कर मत भागो तुम,
कुछ किए बिना ही जय-जयकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

- हरिवंशराय बच्चन

07 February, 2007

Tears

From the day we are born , its drilled into us that one shouldn't cry...

A simple expression of emotions and feeling is denied by calling the child a cry baby. More so with a guy. A guy willing to express his feelings is called feminine.

With adults scolding us , asking us not to behave like a spoilt child, crying all the time , it seems to have become a part of our system that it is not good to cry.

I m not here to advocate people weeping all the time... but sometimes crying is just the best way to vent it out of our system. It needn't be necessarily done in public , but there is no harm in crying one's heart out.But somehow , most people are shy to admit it. Its as if you are brave because you didn't cry.

I feel it takes guts to freely express oneself, without bothering about what others think.

Quote :
Heavy hearts, like heavy clouds in the sky, are best relieved by the letting of a little water.
~Antoine Rivarol